Answers

2015-07-09T13:36:38+05:30
इस कहानी का मुख्य पात्र रसीला , एक इंजीनियर जगतबाबू के घर मात्र दस रुपया की मासिक तनख्वा पर नौकरी करता था। रसीला के बच्चे , पत्नी और पिता गाँव मे रहते है जिनका पालन पोषण रसीला के भेजे गए पैसों से होता था। एक बार रसीला के मन मे पाप आ जाता है और वह पाँच की जगह, हलवाई से साढ़े चार रूपय की मिठाई खरीदता है और अठन्नी बचाकर , रमजान का कर्ज अदा कर देता है। परंतु चोरी करने का अनुभव न होने के कारण ,रसीला की चोरी पकड़ी जाती है । इंजीनियर साब रसीला को बहुत मारते है और पुलिस के हवाले कर देते है। पुलिस वाले को भी जगत बाबू 5 रूपय रिश्वत दे देते है । मामला मजिस्ट्रेट शेख साब के पास पहुंचता है और रसीला को 6 महीने की सजा हो जाती है। अब अगर वर्तमान न्याय व्यवस्था की बात करे तो अभी भी कई सुधार की आवश्यकता है । गरीबो को न्याय के लिए होने वाले खर्च के लिए आर्थिक व्यवस्था करनी होगी । न्याया प्रणाली मे सुधार लाना होगा ताकि न्याय समय पर मिल सके। भ्रष्टाचार को जड़ से उखाड़ फेंकना होगा। रिश्वत खोरी के खिलाफ कड़े कानून बनाने होंगे ताकि रिस्वत मुक्त भारत बन सके।
4 3 4