Answers

2015-06-11T12:41:11+05:30

This Is a Certified Answer

×
Certified answers contain reliable, trustworthy information vouched for by a hand-picked team of experts. Brainly has millions of high quality answers, all of them carefully moderated by our most trusted community members, but certified answers are the finest of the finest.
Ek saal mein che rituein hoti hai. Chaith aur Bhaisaak mein Basant Ritu hoti hai. Basant Ritu ko rituon ka raaja maana jata hai. Yeh ritu sab rituon se sundar, suhavan, aakarshik aur manmohak hota hai. Is ritu mein prakruti apna apoorva soundarya darshaati hai. Is ritu mein naye naye patthe aur phool nikalte hain. Saari taraf hariyali, phulon se lade ped poudhe, sugandh se yukt vathavaran aur phulon par bhawre bhi gunjthe hain. Aam ke ped par bor aa jata hai aur koyal meeti svar mein kuh kuh karti hai. Basant Panchami Basant Ritu ke aagman ki tyohaar hai. Holi, Ramnavami aur Baisakhi ka tyohaar bhi isi ritu mein hota hai. Sardi ka Bas anth ho jata hai. Shri Krishna geeta mein kaha hai ki rituon mein woh basant ritu hai. En dino sab mein prasannatha aur masti cha jaati hai
23 3 23
2015-06-15T05:31:57+05:30

This Is a Certified Answer

×
Certified answers contain reliable, trustworthy information vouched for by a hand-picked team of experts. Brainly has millions of high quality answers, all of them carefully moderated by our most trusted community members, but certified answers are the finest of the finest.
शिशिर ऋतु के बाद बसंत ऋतु का आगमन होता है। इस ऋतु मे तापमान न ज्यादा गरम न ज़्यादा ठंडा होता है। इसी कारण से इस ऋतु मे मौसम बहुत सुहावना और अनुकूल हो जाता है। ऋतुराज बसंत का बड़ा महत्व है |इसकी छटा निहारकर जड़ चेतन सभी मे नव जीवन का संचार होता हैं |सभी मे अपूर्व ऊर्जा और आनंद की लहर आती है |स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह ऋतु बड़ी ही उपयुक्त हैं |इस ऋतु मे प्रात:काल    घूमने से मन मे प्रसन्नता और देह मे स्फूर्ति  आती हैं |स्वस्थ और स्फूर्ति दायक मन मे अच्छे विचार आते हैं |

बसंत ऋतु की शुरुवात  बसंत पंचमी  के त्योहार से होती है। यह दिन विद्यार्थियो  के लिए भी विशेष महत्वपूर्ण दिन होता  हैं |इस दिन सभी विद्यालयों मैं माँ सरस्वती की अर्चना की जाती हैं और उनके आशीर्वाद से ज्ञान से आगे बदने की प्रेरणा ली जाती हैं । 

बसंत ऋतु ऋतुयों का राजा कहलाया जाता हैं |इसमे प्रक्रति का सौन्दर्य सभी ऋतुयों से अधिक होता हैं|वन उपवन भांति भांति  के पुष्पो से जगमगा उठते हैं |गुलमोहर ,चम्पा, सूरजमुखी और गुलाब के पुष्पो के सौन्दर्य से आकर्षित  रंग बिरंगी तितलियों और मधु मक्खियों मे  मधुर रसपान की होढ़ सी लगी रहती हैं |इनकी सुंदरता देख कर मनुष्य भी झूम उठता हैं|
33 4 33