Answers

2015-08-08T00:47:01+05:30
 मोबाइलफोन का आविष्कार विज्ञान की एक अभूतपूर्व देन है | मोबाइल फोनएक ऐसी सुबिधा  बन गई है जिसके बिना दैनिक जीवन अधूरा सा लगता है। मोबाइलफोन तकनीक की शुरुवात सन 1973 मे हुई थी लेकिन इसका व्यवसाहीक उपयोग 1990 के दशक से शुरू हुआ |मोबाइलफोन का मानव समाज पर अत्यधिक प्रभाव हुआ | मोबाइलफोन के दैनिक जीवन मे कई लाभ हैं। मोबाइलफोन के आने से संचार क्षेत्र मे एक नई रफ्तार आ गई है। इसके पूर्व लैंड्लाइन टेलीफ़ोन की सहायता से बात तो की जा सकती थी परंतु वह एक स्थायी उपकरण होता है। मोबाइल को व्यक्ति अपने पास रखकर काही भी घूम सकता है। तात्पर्य है कि मोबाइल की सहायता से व्यक्ति से काही से भी बात की जा सकती है। आज स्मार्ट फोन का चलन शुरू हो गया है। इन की सहायता से एप्स द्वारा विभिन्न प्रकार के कार्य चुटकियों मे किए जा सकते है । मनोरंजन , बैंकिंग, खेल आदि कई प्रकार के एप्स उपलव्ध हैं। अगर हम मोबाइल का सही इस्तेमाल करें तो वह निश्चित रूप से हमारे लिए लाभ दायक होगा। हर सिक्के के दो पहलू होते है । उसी प्रकार मोबाइल के लाभ के साथ साथ कुछ असुविधाएँ भी है। मोबाइल फोन से निकलने वाली तरंगो से स्वास्थ्य पर बुरा असर हो सकता है , हांलाकी इन दुष्प्रभावो की सत्यता पर अभी भी रिसर्च चल रही है। मोबाइल फोन के अत्यधिक उपयोग से आंखो पर भी बुरा प्रभाव पड सकता है। हर वस्तु के अछे और बुरे दोनों पक्ष होते है , परंतु उसका केसे उपयोग करना है यह हम पर निर्भर है। अगर हम मोबाइल का सही इस्तेमाल करें तो वह निश्चित रूप से हमारे लिए लाभ दायक होगा। इस प्रकार मोबाइल फोन वर्तमान युग की एक अत्यंत आवश्यक वस्तु बन गई है जो जीवन का एक अहम अंग है।
43 4 43