Answers

2015-07-20T17:20:31+05:30
Swachh Bharat Abhiyan is a campaign initiated by the PM of India Sri Narendrabhai Modi on Gandhi Jayanti last year. The underlying reason for this campaign is to fulfil the vision of Mahatma Gandhi for a clean India. The PM wants India to be clean in every way – be it home, campus, streets and govt offices – not only from dirt but also from corruption. Mahatma Gandhi called upon the people to make India clean. But, unfortunately, India has remained filthy and uninhabitable even after 67 years of Independence. The PM urges people to materialize the dream of the Father of the Nation. He says : “Let us fulfil Mahatma Gandhi`s vision of Clean India – Swachh Bharat”. He also says “Swachh Bharat Abhiyaan should be approached with a bipartisan spirit of patriotism”. On Gandhi Jayanti, the PM took up a broom and initiated the campaign at Valmiki Basti. Then he made surprise visit to Mandir Marg Police Station at Delhi. Film actor Amir Khan joined the PM in his campaign at Rajpath. Modiji wants to involve the youth of the nation in this cleanliness drive. So he wants to use social media for awareness.He has definite plans for sanitations at schools too. He says in one of his speech : “…all schools in the country should have toilets with separate toilets for girls. Only then our daughters will not be compelled to leave schools midway”. As a part of Swachh Bharat Abhiyan, the concept of “Swachh Vidyalaya” is also brought out. Swachh Vidyalaya is the national campaign driving ‘Clean India: Clean Schools’. A key feature of the campaign is to ensure that every school in India has a set of functioning and well maintained water, sanitation and hygiene facilities. Water, sanitation and hygiene in schools refers to a combination of technical and human development components that are necessary to produce a healthy school environment and to develop or support appropriate health and hygiene behaviours. The technical components include drinking water, hand washing, toilet and soap facilities in the school compound for use by children and teachers. It improves children’s health, school enrolment, attendance and retention and paves the way for new generation of healthy children.The Swachh Bharat Abhiyan is a welcome step indeed. It is said that cleanliness is godliness. For a healthy society we require healthy people. The habit of cleanliness will make a healthy nation.
1 4 1
oh I am sending it in hindi
भारत अभियान गांधी जयंती पर भारत श्री नरेन्द्रभाई मोदी के प्रधानमंत्री ने पिछले साल शुरू की एक अभियान है। इस अभियान के लिए अंतर्निहित कारण एक स्वच्छ भारत के लिए महात्मा गांधी के सपने को पूरा करने के लिए है। गंदगी से भी है लेकिन भ्रष्टाचार से न केवल - घर, परिसर, सड़कों और सरकारी कार्यालयों में यह हो - प्रधानमंत्री भारत हर तरह से साफ होना चाहता है। महात्मा गांधी ने भारत को स्वच्छ बनाने के लिए लोगों का आह्वान किया। लेकिन, दुर्भाग्य से, भारत भी आजादी के 67 साल बाद गंदी और निर्जन बनी हुई है। प्रधानमंत
2015-07-24T22:15:45+05:30

This Is a Certified Answer

×
Certified answers contain reliable, trustworthy information vouched for by a hand-picked team of experts. Brainly has millions of high quality answers, all of them carefully moderated by our most trusted community members, but certified answers are the finest of the finest.
                                         स्वच्छ भारत अभियान

         भारत, हमारा भारत देश वैसे  बहुत खूबसूरत और सुन्दर है।  हम लोगों ने कुछ दशाब्दों से इस को गंदा करके  एक दम बरबाद  किया है।  अब इस को सुधारने का वख्त आया है।     

          2 अक्टोबर 2014 को प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने  स्वच्छ भारत  अभियान का  आरंभ  किया।   इस का मुख्य उद्देश्य है सब सड़कों को , सार्वजनिक जगहों को कूड़ा निकलकर साफ करना, लोगोंको सफाई की तरीकें सिखाना।  बहुत लोगों ने अब तक इस अभियान में भाग लिया और काफी समय और धन भी व्यय किया।

     
महात्मा गाँधी का  यह एक सपना था कि  सब  भारत वासी स्वच्छता के बारे में सीखें और उसका अमल करें।   देश भर के नेताओं ने अभियान में हिस्सा लिया और उसे जारी रखने  की  कसमें खाई। इस अभियान से सब बच्चे, बड़े और बूढ़े साफ सुधरा रहेंगे।  अपने आसपास के जगहों को साफ रखेंगे ।

     
हर हफ़्ते रविवार और शनिवार को सरकार कर्मचारी, अफसर , राजकीय नायक , प्रसिद्ध  सिनेमा कलाकार , समाजिक सेवा संघ और बहुत सारे लोग इस अभियान में भाग ले रहे हैं।  इससे गरीब लोगों के मन में सफाई और स्वास्थ्य ले बारे में विचार पैदा करना है। उन्हे अच्छे संस्कार और आजकल के तरीके सिखाना है।  बहुत जगहों पर कूड़े के डिब्बे  रखे गये।  और, टीवी पर विज्ञापन भी दिखाये जा रहे हैं।

       स्वच्छ भारत अभियान से सार्वजनिक स्वास्थ्य और सफाई  बढ़ेंगे  और सरकार के और गरीबों के पैसे भी  बचेंगे।   सिर्फ दो घंटे हर हफ़्ते  लगाना है हमें  इस काम में।   स्वच्छ भारत में  लोग  न गंदगी करेंगे और  न  करने देंगे ।  इस से बीमारियॉ नहीं फैलेँगे ।  भारत का आर्थिक स्थिति में सुधार होगा ।  

      दो लाख  सार्वजनिक जगहों में  शौचालय  बनायेंगे ।  25,000 विद्यालयों में और गावों में  दो लाखों घरों में शौचालयों का निर्माण करने का प्लान किया गया  है ।   इस में  मुनिसिपलिटी और पंचायत की विशेष  भूमिका है।  ।  जहाँ पर सरकार या नगर पालिका अच्छा  प्रबन्धन नहीं कर पाती है, वहां  कुछ स्वैच्छिक संस्थानों  को सफाई  के  कम  सौंपना  चाहिये।  इन संस्थानों को कुछ नाममात्र भुगतान भी दिया जा सकता है। 

     गाओं में शुद्ध पीने का पानी उपलब्ध करवाना, घरेलू और सार्वजनिक जगहों से  गंदगी, कूड़ा, एयर गंदा पानी को हटवाना ,  ये सब स्वच्छ भारत अभियान का मुख्य उद्देस्य हैं ।  अर्बन डेवलपमेंट (विकास भाग) मंत्रालय शहरों में काम करेगा।  और गाओं में “निर्मल भारत अभियान के नाम पर  ग्रामीण मंत्रालय ये काम करेगा  ।      

     
केंद्रीय  विद्या बोर्ड ने सी बि एस सी , आइ सी एस सी , राज्यों में सरकार विद्या सम्बंध बोर्डों को स्वच्छ भारत के लिये काम करने के लिये कहा  है।  और बहुत सारे विद्यालयों ने भी हर रविवार को स्वच्छता का काम  किया  है।
     विद्यार्थी  बडे  हो कर जब  नागरिक  बन  जायेंगे, तब भारत को स्वच्छ और साफ रखेंगे। विद्यार्थियों को सवास्थ्य के बारे मे जानकारी होने से वे अच्छे संस्कार भी सीखेंगे।  और अपने परिवार के स्वास्थ्य के  बारे में भी जागरूक रहेंगे।  

      
अखबार, टीवी और रेडियो पर प्रसारणों और चर्चाओं लोगों की जानकारी बढ़ेगी ।  कुछ  सालों के बाद हिंदुस्तान पश्चिमी देशों  जैसे एकदम बढिया और सुन्दर हो जाएगा।    नमामि गंगे के नाम पर गंगा नदी को सॉफ करने का काम भी शुरू किया गया।  करोड़ों रुपये खर्च किये गये और भी खर्च किये जायेंगे ।  यह अभियान पांच सालों तक यानि 2019 तक चलेगा ।  हर हफ्ते टिवी पर स्वच्छ भारत अभियान के बारे मेँ लोग़ जो जो कार्यक्रम कर रहे हैं, वे दिखाते हैं ।

      अब तो बहुत राज्यों में भी स्वच्छ भारत की शुरुवाद हो गयी।    लोगों में इसके बारे में ज्ञान  फैला है।   अब  पुलिस वाले भी कैदियों  से स्वच्छ भारत कार्यक्रम में काम कार्वा रहे हैं। 
 
        
हब सब लोगों का एक ही धर्म है कि अपना घर , घर के आसपास के जगहों को साफ रखें और गंदा ना करें।  मेरी  आशा है कि पांच सालों  में सब लोग स्वच्छ  भारत बनाने में अपना हिस्सा निभाएंगे और भारत का नाम दुनिया में रोशन करेंगे।
  

1 5 1
click on thanks button above please