Answers

2014-07-01T13:19:14+05:30
प्रकृति (Nature)ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये कान के पास से गुजरती हवाओ की सरसराहट
ये पेड़ो पर फुदकते चिड़ियों की चहचहाहट
ये समुन्दर की लहरों का शोर
ये बारिश में नाचती मोर
कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये चांदनी रात
ये तारों की बरसात
ये खिले हुए सुन्दर फूल
ये उड़ते हुए धुल
कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये नदियों की कलकल
ये मौसम की हलचल
ये पर्वत की चोटियाँ
ये झींगुर की सीटियाँ
कुछ कहना चाहती है मुझसे
ये प्रकृति शायद कुछ कहना चाहती है मुझसे

2 4 2
2014-07-01T13:47:05+05:30
Jeevan dene valli dharti,
aaj hui hai kyokar parti;
parjeevi ab hue paraye,
garam havaye kyokar chalti,
kisko apni vyatha sunaye?
chalo ek aavaaz uthaye
kyun mousam ab nahi suhate 
zyada garmi ,sardi laate
kisko ek guhar lagaaye chalo ek aavaaz uthaye
kyun sukhi dharti chatki hai
kyun khaali jal ki matki hai
ugra dhara ko aaj manaye 
chalo ek aavaaz uthaye
akshat ,roli pooja chandan
nahi chahti dharti vandan
mil jeene ka mantra banaye 
chalo ek aavaaz uthaye
4 5 4
i can think only this much poem, sorry
Comment has been deleted
thaanx