Answers

2015-12-17T12:09:38+05:30
 बहुब्रीहि समास -  अन्य पद प्रधान समास को बहुब्रीहि समास कहते हैं !इसमें दोनों पद किसी अन्य अर्थ को व्यक्त करते हैं और वे किसी अन्य संज्ञा के विशेषण की भांति कार्य करते हैं ! जैसे -       ( सामासिक पद )               ( विग्रह )                                  1.      दशानन                        दश हैं आनन जिसके  ( रावण )                                          2.      पंचानन                        पांच हैं मुख जिनके    ( शंकर जी )                                      3.      गिरिधर                        गिरि को धारण करने वाले   ( श्री कृष्ण )                              4.      चतुर्भुज                        चार हैं भुजायें जिनके  ( विष्णु )5.      गजानन                       गज के समान मुख वाले  ( गणेश जी )
0