Answers

2016-01-03T17:34:46+05:30
धरती पर बढ़ता प्रदूषण हमारी धरती आज बहुत समस्याओं से जूझ रही है I इसमें बढ़ता प्रदूषण एक गम्भीर समस्या है I आज जल प्रदूषण, थल प्रदूषण, वायु प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण बहुत विराट समस्या बन चुके हैं I आज हमारे देश की नदियां बहुत प्रदूषित हो चुकी हैं, नदियों के किनारे लगे कारखाने अपना सारा कूड़ा नदियों मैं फैंक देते हैं I इससे सारी नदियां बहुत प्रदूषित हो चुकी है, कभी जीवनदायनी कहलाने वाली गंगा आज जहरीली हो चुकी है I देश में कारखानों और गाड़ियों की बढ़ती संख्य़ा से हवा भी जहरीली हो गयी है जिसके कारण लोगों में बहुत सारी बीमारियां उत्पन्न हो रही हैं I वायु प्रदूषण और जल प्रदूषण की वजह से लोग आकस्मिक मौत मर रहे हैं I देश में प्लास्टिक के प्रयोग से मिटटी भी प्रदूषित हो रही है I इसकी उपजाऊ क्षमता बहुत कम हो रही है, फसल में रसायनिक खाद और हानिकारक कैमिकलों के प्रयोग से मिटटी की उर्वरा क्षमता बहुत कमजोर हो गयी है I इसका मुख्य कारण किसानों में जागरूकता का न होना है I ध्वनि प्रदूषण भी एक भयंकर समस्या है I वाहनों के बढ़ते शोर, लाउड स्पीकरों के शोर से और शादी-समारोह में बढ़ते डी जे के बढ़ते चलन से लोगों में सुनने की क्षमता कम हो रही है, खासकर बच्चे इसका बहुत जल्दी शिकार हो रहे है I प्रदूषण समस्या को रोकने के लिए लोगों का जागरूक होना बहुत जरुरी है I इन सभी समस्याओं से निजात पाने के लिए लोगों को खुद काम करना पड़ेगा जैसे प्लास्टिक का प्रयोग न करना, शादी-समारोह में डी जे आदि का प्रयोग न करना, धुंआ आदि न फैलाना, पानी में कचरा और कैमिकल न फैंकना I यदि हर व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी समझे तो इन भयंकर समस्याओं से आसानी से निपटा जा सकता है I ========= प्रदूषण प्रतिकूल परिवर्तन का कारण है कि प्राकृतिक वातावरण में contaminants की शुरूआत है. प्रदूषण शोर, गर्मी या प्रकाश के रूप में रासायनिक पदार्थ या ऊर्जा का रूप ले सकता है. प्रदूषण, प्रदूषण के घटकों, विदेशी तत्वों / ऊर्जा या प्राकृतिक रूप से उत्पन्न contaminants या तो किया जा सकता है. आओ प्रदूषण और उसके नियंत्रण से संबंधित कुछ बुनियादी अवधारणाओं से परिचित हो.
0
2016-01-05T20:57:28+05:30
1 calana ya jab bhee sambhav ho apanee baik kee savaaree. aap rok pradooshan kee madad kar sakate hain sabase acchee ceejon men se ek chotee yaatraon ke lie apanee kaar ka upayog band karane ke lie hai. mausam accha hai aur aap bahut door jaane kee jaroorat naheen hai, calane ya apanee baik kee savaaree par vicaar karen. aap vaayu pradooshan ko kam karane men madad milegee aur aap is prakriya men kuch vyaayaam aur taaja hava mil jaega. 2 saarvajanik parivahan ka upayog karen. bas, tren, ya metro kee savaaree apane nijee vaahan ka upayog karane se bacane aur kaarban utsarjan ko kam karane ke lie ek barhiya tareeka hai. kya aap rahate hain, jahaan acchee saarvajanik parivahan ka upayog kiya hai, ise ka laabh le. aap sarak par apanee aankhen rakhane ke baare men cinta karane kee jaroorat naheen hogee, isalie aap, parhane ke lie samay ka laabh uthaane khabar par pakar, ya bas aaraam kar sakate hain. 3 apanee yaatraon ko majaboot. kuch dinon ke paathyakram par chotee yaatraon kee bahut saaree banaane men paryaavaran ke lie adhik pradooshan aap apanee kaar men hop har baar yogadaan deta hai. isake bajaay kuch dinon ke paathyakram par apane kaam cal raha hai, ek gol yaatra men unhen majaboot karane ke lie prayaas karen. injan thanda hai apanee kaar draiving kee tulana men 20% adhik eendhan kee khapat jab apanee kaar se shuroo hone ke baad se ek lambee yaatra men apanee yaatraon ko majaboot bhee aap paisa bacaana hoga. 4 skool ya kaam carpool. skool ya kaam karane ke lie lambee commutais kaee logon ke lie jeevan ka ek bhaag hai. calane aur saarvajanik parivahan aapake lie accha vikalp naheen hain, to apane skool ya kaam kee jagah par ek kaar men shaamil hone par vicaar karen. le jaata hai draiving aur any logon ke saath savaaree karake, aap kaarban utsarjan kam ho jaega aur tum bhee pratyek saptaah gais ke paise par bacat hogee. [4] carpooling bhee apane sahakarmiyon ke saath dostee ko vikasit karane aur apane laghukaran ke tanaav ko kam karane ke lie ek shaanadaar tareeka hai.
0