Answers

2016-01-05T23:34:05+05:30
2016-01-07T15:01:06+05:30
स्वामी विवेकानंद – एक दिव्यदर्शी

आओ श्रधांजलि दें एक ऐसे ज्ञानी को,
जिन्होंने की थी एक आधुनिक भारत की कल्पना
उत्सुक थे वह अपने लक्ष्य को पाने,
क्योंकि जानते थे वह महान ज्ञानी,
की इस युग में होगा पूर्ण इनका यह सपना 

“ भारत के सच को जानने के लिए भारत के इतिहास को जानो” 
 जिस देश के पास हो वेदांत का पाठ 
  
पर करे जो अपने जीवन मूल्यों का उपहास
  
कभी नहीं जुड़ सकता है ऐसा देश,
  
बिना किये राष्ट्र-भक्ति का आभास

यह आश्चर्यजनक है की उस समय उन्होंने,
की थी परिकल्पना हमारे भविष्य की
क्योंकि जानते थे वह की हमारे देश में
है ऐसी आत्म-शक्ति की करें ऊंचा
भारत का नाम सरे जग मैं

आओ पालन करें उनका वचन, अज्ञान की अन्धकार मिटने को,
आओ श्रधांजलि दें एक ऐसे ज्ञानी को I
4 4 4