Answers

2016-02-14T20:07:14+05:30

This Is a Certified Answer

×
Certified answers contain reliable, trustworthy information vouched for by a hand-picked team of experts. Brainly has millions of high quality answers, all of them carefully moderated by our most trusted community members, but certified answers are the finest of the finest.
आदर्श विद्यार्थी वह है जो ज्ञान या विद्या की प्राप्ति को जीवन का पहला आदर्श मानता है। जिसे विद्या की चाह नहीं वह आदर्श विद्यार्थी नहीं हो सकता। यह विद्या ही है जो मनुष्य को नम्र, सहनशील और गुणवान बनाती है। विद्या की प्राप्ति से ही विद्यार्थी आगे चलकर योग्य नागरिक बन पाता है। 

आदर्श विद्यार्थी को अच्छी पुस्तकों से प्रेम होता है। वह पुस्तक में बताई गई बातों को ध्यान में रखता है और अपने जीवन में उतार लेता है। वह अच्छे गुणों को अपनाता है और बुराइयों से दूर रहता है। उसके मित्र भी अच्‍छे सद्‍गुणों से युक्त होते हैं।

वह अपने गुरुजनों का सम्मान करता है। आदर्श विद्यार्थी अपने चरित्र को ऊंचा बनाने का प्रयास करता है। वह शिक्षकों तथा अभिभावकों की उचित सलाह को सुनकर उस पर अमल करता है। 
आदर्श विद्यार्थी देश के भविष्य में मददगार साबित होते हैं। वे ही बड़े होकर डॉक्टर, इंजीनियर, वैज्ञानिक, शिक्षक, पत्रकार, आईएएस, आईपीएस, वकील और फौज में उच्च अधिकारी आदि बनते हैं। वे देश की सेवा करते हैं और अपने देश व परिवार का नाम ऊंचा करते हैं। यदि किसी व्यक्ति का विद्यार्थी जीवन आदर्श रहा हो तो उसे आगे चलकर आदर्श नागरिक बनने में काफी मुश्किल हो सकती है।

आदर्श विद्यार्थी को सीधा और सच्चा होना चाहिए। उसे आलस्य नहीं करना चाहिए। परिश्रमी और लगनशील होना चाहिए। पढ़ाई के अलावा खेलकूद व अन्य गतिविधियों में भी भाग लेना चाहिए। उसे विद्यालय में होने वाली सभी तरह की गतिविधियों में भाग लेकर अपने व्यक्तित्व का विकास करना चाहिए। एक आदर्श विद्यार्थी अपने लक्ष्य को हमेशा ध्यान में रखता है।
0
2016-02-14T20:10:23+05:30

This Is a Certified Answer

×
Certified answers contain reliable, trustworthy information vouched for by a hand-picked team of experts. Brainly has millions of high quality answers, all of them carefully moderated by our most trusted community members, but certified answers are the finest of the finest.
Padhna likhana bhaad me chhodo, filmi gana gao…Jab tak hai papa ka paisa, tab tak mauj udao…
Kya karna hai jyada padh ke, hume prem patra to likhna aata haiKyoun soche hum apne kal ki, jab ghar me dhero paisa aata hai
Baap hamare bade dayalu, humse kuchh nahi kahte haiTo kyoun sun le hum kisi aur ki, kya hum kisi se darte hai…
Hum karte hai apne man ki, hum apne man ke swami haiNaam karenge is duniya me, kartoot hamari naami hai…
Naya jamana nai sadi, hum bhi naye navele haiHar pal dhoone sangi sathi, hum to bahut akele hai…
Bade baal aur kaan me baali, yahi aaj ka fashion haiKya antar ladki ladke me, yahi to new generation hai…
Naitik siksha sadachaar to bahut purani baate hai…Matra bhasha ko maro goli, gana tak English me gate hai
Pita se papa, papa se daddy, daddy ko dad bulate haiMano jeete ji unko, marne ka aihsaas dilate hai
Aaj kare so kaal kar, yahi hamara naara haiKya jaldi hai humko bhaiya, jab sara waqt hamara hai
0