Answers

2016-04-10T14:06:12+05:30
मानव जीवन की सफलता के लिए 3 शक्तियों के विकास की आवश्यकता है-मानसिक, आत्मिक, शारीरिक । इन 3 शक्तियों के विकास के लिए विचारकों ने भिन्न-भिन्न उपाय बताये हैं Iएक कहावत है ‘स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मष्तिष्क निवास करता है’ I खेलकूद से व्यक्तित्व का विकास होता है I खेल शरीर को हष्ट पुष्ट बनाने का सुन्दर साधन है I खेल स्फूर्ति, ताजगी और गतिशीलता के अस्त्र हैं I जीवन मैं स्वास्थ्य का विशेष महत्व है और अच्छे स्वास्थ्य के लिए खेलों का अपना महत्व है I
हॉकी के प्रसिद्ध खिलाडी स्वर्गीय कुंवर दिग्विजय सिंह ने ठीक ही कहा है ‘खेल के मैदान मैं केवल स्वास्थ्य ही नहीं बनता, वरन मनुष्य बनता है’ I खेल खिलाडी की आत्मा है और खेल की भावना इस आत्मा का श्रृंगार है I खेल की भावना खिलाडी को पारस्परिक सहयोग, संगठन, अनुशासन और सहनशीलता की शिक्षा देती है I
जब खिलाडी खेल के मैदान मैं खेलता है तो उसका रोम-रोम पुलकित हो उठता है I खेल में भाषा के नाम पर भेदभाव नहीं होते, पंजाबी हो या बंगाली सभी मिलकर खेलते हैं I राजाओं के समय भी तरह तरह के खेल होते थे और उनको सरंक्षण प्राप्त था I
1 5 1
2016-04-10T20:54:44+05:30
Good answer ...................................
0