Answers

2016-04-23T12:36:28+05:30
हय–रूण्ड गिरे¸गज–मुण्ड गिरे¸ 
कट–कट अवनी पर शुण्ड गिरे।
लड़ते – लड़ते अरि झुण्ड गिरे¸
भू पर हय विकल बितुण्ड गिरे।।

चिंग्घाड़  भगा  भय  से  हाथी¸
लेकर  अंकुश  पिलवान  गिरा।
झटका लग गया¸ फटी झालर¸
हौदा गिर गया¸ निशान गिरा।।

कोई  नत – मुख  बेजान  गिरा¸
करवट   कोई   उत्तान   गिरा।
रण – बीच अमित भीषणता से¸
लड़ते – लड़ते  बलवान  गिरा।।


क्षण भीषण हलचल मचा–मचा
राणा – कर  की  तलवार  बढ़ी।
था  शोर  रक्त   पीने  को  यह
रण – चण्डी जीभ पसार बढ़ी।।


 
1 5 1