Answers

2016-04-25T19:00:36+05:30

उत्तर भारत, अफगानिस्तान और पाकिस्तान रविवार शाम भूकंप के तेज झटकों से हिल गया. 6.8 तीव्रता के इस भूकंप ने पिछले साल नेपाल में आई उस तबाही की याद दिला दी, जिसमें करीब 8000 से ज्यादा लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी. 25 अप्रैल की उस घटना को याद करें तो उसने नेपाल के एक इतिहास को चंद सेकंड में धराशायी कर दिया था.

नेपाल में आए भयंकर भूकंप से 19वीं सदी का नौ मंजिला धरहरा टॉवर पूरी तरह टूट गया था. 1832 का में बना यह टावर भूकंप के भयानक झटकों के बाद मटियामेट हो गया.

'इसलिए खास था धरहरा टॉवर'
सन् 1832 में नेपाल के पहली प्रधानमंत्री भीमसेन थापा द्वारा बनवाया गया यह टॉवर एक प्रतिष्ठित स्मारक था. इसका निर्माण एक सैन्य निगरानी टॉवर के रूप में किया गया था, जो बाद में काठमांडू का एक मुख्य ऐतिहासिक स्थल बन गया. बताया जाता है कि इसे नेपाल का 'कुतुबमीनार' कहा जाता था. धरहरा को 10 साल पहले ही पर्यटकों के लिए खोला गया था.

हजारों पर मौत बनकर टूटा था भूकंप 
7.9 मैग्नीट्यूड वाले भूकंप से नेपाल में हर तरफ मौत और मातम का मंजर पसर गया था. इस भयानक प्राकृतिक आपदा में 8000 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. इस तबाही के बाद नेपाल में लाखों लोग बेघर हो गए थे.. 


"OR"

YOU CAN ADD THESE LINES TOO! IN BETWEEN !!!



'भूकंप' का अर्थ है पृथ्वी के वे कंपन जो धरातल को कंपा देते हैं और इसे आगे पीछे हिलाते हैं। भूगर्भिक हलचलों के कारण भूपटल तथा उसकी शैलों में संपीडन एवं तनाव होने से शैलों में उथल-पुथल होती है जिससे भूकंप उत्पन्न होते हैं। भूकंप की तीव्रता मापने के लिए रिक्टर स्केल का पैमाना इस्तेमाल किया जाता है। इसे रिक्टर मैग्नीट्यूड टेस्ट स्केल कहा जाता है। 

वर्ष 2015 नेपाल के लिए तबाही का साल रहा है। 25 अप्रैल 2015 को आये भूकंप का मंजर दिल दहला देने वाला था। इन दिनों प्राकृतिक आपदाओं ने पूरे नेपाल को तहस-नहस करके रख डाला। 25 अप्रैल के पश्चात आये भूकंप के अनेक झटकों ने वहां के जन-जीवन और आर्थिक व्यवस्था को हिला कर रख दिया। हजारों लोग मारे गए, कई बच्चे अनाथ हो गए और हजारों लोग बेघर हो गए।

2015 में नेपाल में आये भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 7.9 थी जो 25 अप्रैल 2015 को सुबह 11:56 स्थानीय समय में घटित हुआ। भूकंप का अधिकेन्द्र लामजुंग, नेपाल से 38 कि॰मी॰ दूर था। 1934 के बाद पहली बार नेपाल में इतना प्रचंड तीव्रता वाला भूकंप आया है जिससे 10000 से अधिक मौते हुई हैं और 7000 से अधिक घायल हुए हैं। भूकंप में कई महत्वपूर्ण प्राचीन ऐतिहासिक मंदिर व अन्य इमारतें भी नष्ट हुईं हैं। भूकंप के झटके चीन, भारत, बांग्लादेश और पाकिस्तान में भी महसूस किये गये।


भूकंप के तुरंत बाद भारत नेपाल के ऑपरेशन मैत्री ने रफ्तार पकड़ ली भूकंप के तुरंत बाद राहत और बचाव के लिए एनडीआरएफ़ की 10 टीम नेपाल भेजी गयी तथा 6 और टीमे भेजने की घोषणा की गयी। 13 मिलिट्री एयर क्राफ्ट, 50 टन पानी और अन्य सामग्री भेजी गयी। एक मानव रहित एरियल भी भेजा गया ताकि नुकसान का जायजा लिया जा सके। आंकलन है कि उक्त नेपाल त्रासदी से लगभग 80 लाख लोग प्रभावित हुए हैं।  



HOPE THIS HELP YOU!!

AND PLEASE MARK AS BRAINLIEST ANSWER!!! ^_^

0
sorry but i can't give more than this!!!