Answers

2014-12-26T11:06:57+05:30
भारत में वर्षा वर्षा ऋतु  का आगमन जून महीने से ही कुछ जगहों पर शुरू हो जाता है | aइसका सभी को  बेसब्री से इन्तजार रहता है .बच्चे , पेड़, पौधे , जानवर एवं पक्षीगण आदि खुश  हो उठते हैं ,  , चूँकि भारत एक कृषि प्रधान देश है ,कृषक वर्षा की प्रतीक्षा में रहते हैं .धान बोने एवं कुछ अन्य फसलों के लिए पर्याप्त जल  की आवश्यकता होती है .हर वर्ष भारत के कई  जगहों पर  अनियमित वर्षा की स्थिति पायी जाती है   .नहरों की सुविधाएँ भी कई  स्थानों पर  उपलब्ध  नहीं  हैं वृष्टि के कारण चारों  तरफ हरियाली छा  जाती है  कभी मूसलाधार/ जोरों से बरखा होती है|  अत्यधिक वर्षा के कारण  कभी -कभी फसलें, घर-बार इत्यादि जलमग्न हो जाते हैं.बाढ़ के वजह से भारी क्षति /हानि (मानव, घर, पशुधन आदि) होती है, कई स्थानों पर  तो कभी कभी रेलगाड़ियों के आवागमन  को कुछ समय के लिएप्रतिबंधित कर दिया जाता हैयात्रीगण सफ़र के दौरान काफी कष्ट उठाते हैंवाहन सबंधी दुर्घटनाएं  भी होती हैं .जल जनित  बीमारियों में वृद्धि हो जाती है .सांझ की बेला में एक  कप  चाय की चुस्की लेना  एवं पकौड़ी खाना कौन नहीं पसंद करेगा? .बारिश का मौसम अक्टूबर तक रहता है |.शब्दावलीऋतु आगमन बेसब्रीप्रतीक्षा   इन्तजारधाyपर्याप्त tअनियमितस्थिति  nनहरों canalsवृष्टि  हरियाली  जलमग्न  प्रतिबंधितदुर्घटनाएंसांझ की बेलाचुस्की
2 3 2