Answers

The Brainliest Answer!
2015-01-09T16:37:04+05:30
स्वच्छ भारत के नारों से आज गूंज उठा दिल्ली का कोना कोना।पांच हजार बच्चों ने जोरदार ध्वनि से प्रधानमंत्री का स्वागत किया। बच्चे सफाई अभियान के समर्थन में उत्साह के साथ झंडे और पोस्टर लहरा रहे थे।वहां मौजूद सभी लोगों ने मगन होकर स्वच्छता मिशन पर बनी फिल्म को देखा।शपथ लेने से पहले जानेमाने अभिनेता और सामाजिक कार्यकर्ता आमिर खान को मंच पर बुलाया गया और उसके बाद प्रधानमंत्री ने शपथ दिलाई। प्रधानमंत्री ने सभी से हाथ ऊपर उठाकर महात्मा गांधी का ध्यान करने और फिर शपथ लेने के लिए कहा।इस अवसर पर ‘वाकेथन’ को हरी झंडी दिखाने के बाद बच्चों की अत्यधिक खुशी को देखकर प्रधानमंत्री भी व्रत के बावजूद कुछ दूर तक उनके साथ चले।इस अवसर पर समाज जीवन के प्रत्येक तबके के लोग उपस्थित थे।वाल्मीकि बस्ती में प्रधानमंत्री ने बच्चों से स्वच्छता सेनानी बनने का आह्वान किया।

राजपथ से ‘स्वच्छ भारत मिशन’ की शुरूआत के अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दिये गए भाषण का मूल पाठ

भारत माता की जय!

जय हिन्‍द।

महात्‍मा गांधी अमर रहे

3 3 3
2015-01-09T16:58:27+05:30

स्वच्छ भारत अभियान  की शुरुवात नरेंद्र मोदी ने किया था.

 

ये २ अक्टूबर को आरम्भ हुआ था.

 

२ अक्टूबर को मोहन दास करमचंद गांधीजी का भी जनम दिन है.

 

ये चाहते थे की भारत सिर्फ स्वतंत्र नहीं होगी , भारत स्वच्छ भी होगा.

 

इस लिए  इस अभियान को इनके जनम दिन पर आरम्भ किया गया है.

 

हम सब का भी कर्त्तव्य बन ता है की हम सब मिलकर इस में भाग ले .

 

हमें अपने घर को स्वच्छ बनाना चाहिए.

 

हमें हमरे घर के शौचालय भी स्वच्छ रखना चाहिए.

 

बगीचे में कूड़े नहीं फेक ने चाहिए.हमारा दूसरा घर है विद्यालय  .

 

हमें इसे भी स्वच्छ रखना चाहिए.

 

अगर हम स्वच्छ नहीं रहेंगे तोह लोग हमें इज़्ज़त नहीं देंगे.

 

हमें रोज़ नहाना चाहिए ताकि हमारे देह से दुर्गन्ध न आये.

 

हमें धुले हुए कपड़े पहनने चाहिए ताकि हमें सुन्दर दिखे .

 

इससे हमारे इज़्ज़त घट के वजय और बड़ेगी.

 

हमें आज से ही अपने घर और स्कूल को स्वच्छ बनाना आरम्ब कर देना चाहिए.

 

इस तरह से हम भारत को स्वच्छ बना पाएंगे.

 

भारत स्वच्छ होगा तोह हम भी स्वस्थ रहेंगे.

 

इस अभियान का लक्ष्य है गाओं में सौचालय बनवाना और उसे स्तेमाल करवाना.

 

इस अभियान के ज़रिये लोग स्वच्छकता की महत्व जान पाएंगे.

 

यह अभियान ५ साल तक चलेगा.

0