Answers

2015-03-08T15:44:51+05:30
मेरे जीवन का लक्ष्य : कहते है कि जीवन व्यर्थ होगा अगर हमारे पास जीने का कोई वजह न होगा , महत्वाकांक्षा न होगा , लक्ष्य न होगा . अधिकतर लोग जीवन में इसलिए सफल होते है क्योंकि उनके पास कोई लक्ष्य है . लक्ष्य चाहे बुरा हो या अच्छा , वह हमें कवायद कर देता है . मेरी भी इक लक्ष्य है - एक मान्य मेखिका बनना . मुझे कहानिया लिखा बेहत पसंद है . उसमे मई अपने आप को नायकी के जीवन में खोकर लिखती हूँ . मुझे लिखना इसलिए अच्छा लगता है क्योंकि उससे मई दोसर को अपनी विचारों के बारे में बता सकूँगी और कभी - कभी मन का संताप भी बताकर दिल को हल्का महसूस कर सकूँगी . मेरे अधिकतर कहानियों में मेरी अपनी जीवन छिपी है , मेरे भीतरी आशंकाओं से सम्मिलित है . लोग जिन्होंने मेरी कहानियाँ पढ़े है , वे कहते है कि वह मेरे उम्र से तुलनात्मक करे, तो मेरे कथाओं बहुत ही मार्मिक होते है और कभी -कभी पढ़कर आँखों में आँसू भी भर लाते है . यह सुनकर अच्छा लगता है . मैं चाहती हूँ कि लोग मेरे जीवन में किये गए भूल से कुछ सीखे और खुद वे गलतियाँ न करे . जो दुःख और तकलीफ मैंने सहन कि है , मै नहीं चाहती कि दूसरो भी झेले . मैं चाहती हूँ कि एक दिन मैं अपनी कहानियों के लिए यश और कीर्ति पाऊ , ताकि और भी लोग मेरे कथाए पढ़ सके और जीवन से खुश रहना सीखे . इस वंशज में पढना बहुत आवश्यक है , क्योंकि अनेक लोग पढना छोड़कर टेलीविजन और कंप्यूटर से कैद है . मैं चाहती हूँ कि मेरे कहानियाँ पढ़कर लोग इस खोई - हूई प्रदान कणों वापस अपनाए . यही मेरे जीवन का लक्ष्य है , और मैं इसे पाकर ही रहूंगी . कहते है कि जीवन व्यर्थ होगा अगर हमारे पास जीने का कोई वजह न होगा , महत्वाकांक्षा न होगा , लक्ष्य न होगा . अधिकतर लोग जीवन में इसलिए सफल होते है क्योंकि उनके पास कोई लक्ष्य है . लक्ष्य चाहे बुरा हो या अच्छा , वह हमें कवायद कर देता है .
2 3 2