Answers

2015-04-18T20:27:35+05:30

This Is a Certified Answer

×
Certified answers contain reliable, trustworthy information vouched for by a hand-picked team of experts. Brainly has millions of high quality answers, all of them carefully moderated by our most trusted community members, but certified answers are the finest of the finest.
स्वच्छ भारत अभियान सफाई की दिशा में भारत में ले लिया एक बड़ा कदम था। यह भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किया गया था। उन्होंने कहा कि हम कुछ वापस देना चाहिएताकि गांधीजी हमें आजादी दे दी है कि कहते हैं। और भी गांधी स्वतंत्रता और सफाई चाहते थे जोदो बातें कर रहे थे। इसलिए हमारे प्रधानमंत्री अभियान भारत इस चकती एक श्रद्धांजलि गांधी जीका कहना है कि 
भरत आदर्श वाक्य हमारे देश स्वच्छ और पूरी तरह से प्रदूषण को कम कर देता है, जो पेड़ के साथलगाए बनाने के लिए है जो एक अभियान है। इसके लक्षणों में स्वस्थ लोगों के साथ प्रदूषणऔर स्वच्छ परिवेश में नुकसान हुआ है। इस स्वच्छ भारत अभियान  के अनुसार साफ औरस्वच्छ भारत रखने के लिए हमारी सरकार द्वारा शुरू किया एक मिशन है। स्वच्छ  भारत मिशनके लिए हमारे वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 के 2 एन डी अक्टूबर को शुरू किया गया थाऔर वे चुनौती लेने और नौ से अधिक लोगों को नामित करना और इतनी I यह शामिल होने केजीवन के सभी क्षेत्रों से प्रसिद्ध लोगों के साथ तब से आगे बढ़ाया गया है। स्वच्छ भारत मिशन केस्वतंत्रता दिवस पर घोषणा की और 2 अक्टूबर को शुरू किया गया था।
                      स्वच्छ भारत हमारे जीने में एक अच्छा प्रभाव दिखाता है। यह सबसे पहले हम भी हमें स्वस्थ रखता है जो इस के अंतर्गत आने साफ कपड़े पहने, ब्रश होने, स्नान बात करके स्वच्छ हर दिन हमें रखने के लिए इसका मतलब है।
         आम तौर पर हम अपने स्वास्थ्य पर काफी प्रभाव दिखाकर मच्छर जनसंख्या में वृद्धि हो जाती है, जो हमारे परिवेश में कचरे से बाहर फेंक देते हैं। 
          हम धूल डिब्बे का उपयोग अगर हम हम संक्रमण या वायरल रोगों के किसी भी प्रकार प्राप्त फ्लॉप स्वच्छ हमारे शौचालय रखने  मलेरिया ,डेंगू की कोई समस्या नहीं होगी ..
          हम स्वच्छ हमारे शहर रखने अगर हम कई बीमारियों से प्रभावित नहीं करेगा। इसलिए भारत की सफाई से सुरक्षित रखने के लिए।    
2 4 2
2015-04-22T19:09:25+05:30
vaise to sabhi ko apni matrabhumi par garv hota magar bharat to swarg se bhi mahan he. jo iss dhara pe janma h wah bohat hi bhagyawaan h. bharat vishwa-sabhyata ka janak h. bharat alag-alag dharmo aur sanskritiyo ka sangam-sthal h. mein har baar iss pawan vasudha par janam lena chahungi. mujhe bhartiya hone m garv mahsoos hota h kyuki mujhe is pawan bhumi par janam lene la soubhagya mila.
1 5 1