Answers

2015-06-23T12:56:00+05:30
1. यदि मार्ग काँटों भरा हो, और आप नंगे पांव हो तो रास्ता बदल लेना चाहिए| 
                                                                                              - चाणक्य 

2.
खुद के लिये जीनेवाले की ओर कोई ध्यान नहीं देता पर जब आप दूसरों के लिये जीना सीख लेते हैं तो वे आपके लिये जीते हैं।                                                             - श्री परमहंस योगानंद

3. अज्ञानता ही दुनिया के सब दु:खों और बुराईयों की जड़ है |                                                                                                      -स्वामी विवेकानंद

4 . अपनी पीड़ा सह लेना और दूसरे जीवों को पीड़ा न पहुंचाना, यही तपस्या का स्वरूप है|
                                                    -संत तिरुवल्लुवर

5.सत्य से बड़ा तो इश्वर भी नहीं |                            

                                               -  महात्मा गांधी 




1 5 1