Answers

2015-07-03T18:53:02+05:30
Ped(tree) humare vatavaran ki ek bahut he mahatvapurn vastu hai. ped bhi hum manushyon ki tarah saas lete hai avum humari tarah he jeete-marte hai.
0
2015-07-04T06:35:13+05:30

This Is a Certified Answer

×
Certified answers contain reliable, trustworthy information vouched for by a hand-picked team of experts. Brainly has millions of high quality answers, all of them carefully moderated by our most trusted community members, but certified answers are the finest of the finest.
मानव की उत्पत्ति से पूर्व ही वृक्षों का जन्म हो चुका था|वृक्ष आदिकाल से ही मनुष्य के हितैषी रहे हैं|सभी प्रकार के वृक्ष, पेड़-पोधे मनुष्य समाज के लिए सदैव ही उपयोगी रहे हैं और मनुष्य के जीवन यापन मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे हैं| यही कारण है कि वृक्षो को मनुष्य का सच्चा मित्र कहा जाता हैं|वृक्ष हमसे कुछ न लेते हुए भी हमें बहुत कुछ देते हैं जो एक सच्चा मित्र ही कर सकता है|
वृक्षो से हमे मीठे , गुणकारी एवं स्वास्थ्यवर्धक फल प्राप्त होते हैं जो हमारे दैनिक भोजन का एक महत्वपूर्ण अंग होते हैं| कुछ विशेष वृक्ष जैसे सागोन, शीशम आदि की लकड़ी से फ़र्निचर ,पानी के जहाज ,खेल का समान ,इमारते आदि बनाए जाते हैं जो हमारे दैनिक जीवन एवं देश के विकास मे बहुत महत्व रखते हैं|
वृक्षो की छाल,पत्ती , फूलो आदि से कई विशेष प्रकार की औषधिया बनाई जाती हैं जो कई रोगो के इलाज मे उपयोग की जाती हैं|उदाहरण के लिए आयुर्वेद की बहुत सी दवाइयो मे नीम के वृक्ष की छाल ,पत्तियों एवं तेल का उपयोग किया जाता हैं|वृक्ष सूर्य के प्रकाश की उपस्थिती मे प्रकाश संश्लेषण की क्रिया करते है जिसमे वे कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करते हैं तथा प्राणवायु ऑक्सीज़न उत्सर्जित करते हैं|इस प्रक्रिया से ग्रीनहाउस प्रभाव के रोकथाम मे सहायता मिलती हैं |वृक्ष पक्षियो को रहने के लिए घर प्रदान करते है |ग्रीष्म ऋतु मे वृक्षो की छाया मे पशु पक्षियो एवं मनुष्यो को भी सूर्यताप से बचने की शीतल जगह मिलती है |वृक्षो की जड़ो से मृदा अपरदन की क्रिया कम होती हैं एवं वृक्ष मृदा मे भूमिगत जल को संचित रखने मे सहायक होते हैं|
2 5 2