Answers

2017-01-17T18:41:33+05:30
बहुत ज़रूरी होती शिक्षा,
सारे अवगुण धोती शिक्षा.
चाहे जितना पढ़ लें हम पर,
कभी न पूरी होती शिक्षा.
शिक्षा पाकर ही बनते हैं,
नेता, अफ़सर शिक्षक.
वैज्ञानिक, यंत्री व्यापारी,
या साधारण रक्षक.
कर्तव्यों का बोध कराती,
अधिकारों का ज्ञान.
शिक्षा से ही मिल सकता है,
सर्वोपरि सम्मान.
बुद्धिहीन को बुद्धि देती,
अज्ञानी को ज्ञान.
शिक्षा से ही बन सकता है,
भारत देश महान.

hope it help
0