Answers

2015-12-18T16:35:04+05:30
अटल बिहारी वाजपेयी
अंतर्राष्ट्रीय शांति और सद्भाव को प्रोत्साहित करने में उनका योगदान

जब कोई न उसकी बात था करता
तब छेडी थी बात वाजपेयी जी ने
दुर्भाग्यपूर्ण था वह की तब 
किसी ने नहीं सुनी उनकी बात 
उनके सन्देश को, की हम सब को मिलकर 
रोकना होगा यह फैलता हुआ आतंकवाद 

गौर किया भिन्न-भिन्न देशों ने उनकी वाक्य पर
तब, जब हो चूका था नरसंघार
जब सबकी जीवन पर आया वह संकट 
और सबके गली-घलियारे थे खून से लतपत

‘सद्भाव से ही प्रगति’ कहा उन्होंने 
संसार के सामने माथा टेककर
और शांति के लक्ष्य को प्राप्त करने,
गए अटल सदा-ए-सरहद I
1 5 1