Answers

2016-01-05T23:21:12+05:30
जो व्यक्ति चांदी प्राप्त करने का विचार करता है वह सोना प्राप्त करने वाले कार्य कर ही नहीं सकता । इसलिये जीवन में लक्ष्य सदैव बड़ा ही होना चाहिये । यह संसार कर्मभूमि है और मानव योनि कर्म योनि है । इस ससार में रहकर सबको कुछ न कुछ कर्म करना पड़ता है । यह कर्म किसी दिशा अथवा लक्ष्य को अवश्य समर्पित होता हैं दिशा अथवा लक्ष्य के बिना कर्म वास्तव में कर्म नहीं होता । अत: कर्म करने से पूर्व लक्ष्य निर्धारित किया जाना चाहिए । अब प्रश्न यह है कि जीवन का क्या लक्ष्य होना चाहिए ? कर्म किस दिशा अथवा लक्ष्य को समर्पित होने चाहिए ? आज संसार पैसा कमाने के पीछे लग रहा है । वह अधिक से अधिक पैसा कमाना चाहता है ।पैसा कमाने के लिए वह उचित – अनुचित, ठीक अथवा गलत कोई भी साधन अपनाने को तैयार है । धर्म अथवा नैतिकता के सिद्धान्त उसके लिए पुराने पड़ गए हैं । पैसा कमाने की होड़ सी लग गई है तो क्या पैसा कमाना ही जीवन का लक्ष्य है ? क्या पैसे से सुख और शान्ति प्राप्त हो जाती है ? क्या पैसे से वर्तमान और भविष्य तथा लोक और परलोक संवर जाते हैं ? शायद नहीं कदापि नहीं । बेईमानी से कमाया हुआ पैसा व्यक्ति को रोटी तो दे सकता है किन्तु भूख नहीं। यह पैसा व्यक्ति को नरम बिस्तर तो दे सकता है किन्तु नींद नहीं । अर्थात् ऐसा पैसा उसे भोग विलास की वस्तुएँ दे सकता है किन्तु मन की शान्ति नहीं । पैसे वालों को प्राय: दु:ख और कष्ट में देखा गया है । वे अधिक अशान्त रहते हैं । यदि पैसा ही अपने आप में लक्ष्य है तो धनी लोग सुखी क्यों नहीं होते हैं ? वे प्राय: उच्च रक्तचाप अथवा हृदय रोग से पीड़ित क्यों रहते हैं ? यदि पैसा तथा सांसारिक वैभव में सुख था तो महात्मा बुद्ध, स्वामी दयानंद, स्वामी रामतीर्थ तथा भगवान महावीर ने क्यों घर को त्यागा ? मर्यादा पुरुषोत्तम राम ने राजपाट छोड़कर वनवास जाना क्यों स्वीकार किया ? अत: यह सर्वविदित है कि पैसा अपने आप में जीवन का लक्ष्य नहीं है । यह साधन मात्र तो हो सकता है । फिर जीवन का क्या लक्ष्य हो सकता है ? ऊँचा पद ? ऊँचे पद का अंतत: उद्‌देश्य तो पैसा कमाना ही है । अत: पैसे की तरह ऊँचा पद भी मात्र एक साधन है । सत्ता अथवा शक्ति जीवन का लक्ष्य नहीं हो सकती क्योंकि सत्ता मनुष्य को भ्रष्ट वनाती है । सत्ता से वह दुर्गुण तथा दुर्व्यसनों में फंसता है और अंतत: पतन को प्राप्त हो जाता है । इसका अर्थ यह है कि जीवन का लक्ष्य न पैसा है न पद और न ही सत्ता और शक्ति । हम प्रतिदिन एक वेदमंत्र के माध्यम से ईश्वर से यह प्राथना करते हैं कि वह हमें शक्ति प्रदान करे । हम अच्छे कर्म करें । हमारे यश और कीर्ति की सुगन्ध चारों ओर फैले । जब मैं ध्यान से देखता हूँ तो इसी प्रार्थना में ही मुझे जीवन का लक्ष्य दिखाई देता है । अच्छे कर्म करने के लिए परमात्मा की सहायता तथा अनुकूल वातावरण चाहिए । तरह-तरह के धंधे है जिनसे खूब धन कमाया जा सकता है । किन्तु धंधे में झूठ और बेईमानी के बिना सफलता मिलना कठिन है । अच्छे पद पर बैठे व्यक्ति को भी लोग ईमानदरि से कार्य नहीं करने देते । भ्रष्टाचारी वर्ग सदैव यह चाहता कि ईमानदार भी उसके द्वारा निर्मित प्रदूषित नदी में डुबकी लगाये । इसीलिये कुछ लोग अपनी सवार्थ सिद्धि के लिए विभिन्न प्रकार के प्रलोभन देते हैं । मनुष्य तो जन्म से ही दुर्बल है । कभी भी पथभ्रष्ट हो सकता है । जैसा कि महान दार्शनिक रूसो ने कहा है मनुष्य स्वभाव से लालची है । कायर है तथा आत्मिक तौर पर तुच्छ तथा कमजोर है । अत: आदमी का कार्य ऐसा होना चाहिए जो केवल ईमानदारी से रहने के ही अवसर प्रदान करे । पढ़ने तथा पढ़ाने में मेरी रुचि है । भले ही यह संभव हो अथवा नहीं । मैं संसार का सभी ज्ञान प्राप्त करना चाहता हूँ । विद्या पढ़कर ज्ञान बढ़ता है । ज्ञान प्राप्त होने पर सुख की अनुभूति होती है । ज्ञान का आदान-प्रदान करने में और भी अधिक खुशी होती है । मैं न केवल ज्ञान प्राप्त करना चाहता हूँ अपितु मैं अपने ज्ञान प्रेषित भी करना चाहता हूँ । जब हम पढ़ाते हैं तो अधिक सीखते हैं । विद्या दान से बड़ा कोई और दान नहीं है । एक संत का कथन है एक अच्छा शिक्षक एक हजार पादरियों के बराबर मूल्यवान होता है । अत: मैं कॉलेज का अध्यापक बनकर विद्या दान करूंगा । स्वयं पढूँगा । अच्छे कर्म करके आदर्श मानव बनुंगा और दूसरों को भी ऐसा बनाने में सहायता करूंगा । मैं इसलिये शिक्षक बनना चाहता हूँ क्योंकि अच्छे संस्कारों के प्रेषण तथा विद्या दान से उत्तम कोई कार्य नहीं है । यह ठीक ही कहा गया है कि विद्वान की कलम की स्याही शहीद के खून से भी अधिक पवित्र होती है । यह व्यवसाय मुझे अच्छे कर्म करके यश और कीर्ति अर्जित करने का अवसर प्रदान करेगा । कॉलेज अध्यापक बनने के लिए अच्छा शैक्षणिक रिकॉर्ड चाहिए । इसे प्राप्त करना कठिन है । अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए मुझे कठोर परिश्रम करना होगा । मै अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सब कुछ करूँगा।
0