Answers

2016-04-26T08:54:30+05:30

विज्ञान का अर्थ है विशेष ज्ञान। मनुष्य ने अपनी आवश्यकताओं के लिए जो नए-नए आविष्कार किए हैं, वे सब विज्ञान की ही देन हैं। आज का युग विज्ञान का युग है। विज्ञान के अनगिनत आविष्कारों के कारण मनुष्य का जीवन पहले से अधिक आरामदायक हो गया है।

मोबाइल, इंटरनेट, ईमेल्स, मोबाइल पर 3जी और इंटरनेट के माध्यम से फेसबुक, ट्‍विटर ने तो वाकई मनुष्य की जिंदगी को बदलकर ही रख दिया है। जितनी जल्दी वह सोच सकता है लगभग उतनी ही देर में जिस व्यक्ति को चाहे मैसेज भेज सकता है, उससे बातें कर सकता है। चाहे वह दुनिया के किसी भी कोने में क्यों न हो।

यातायात के साधनों से आज यात्रा करना अधिक सुविधाजनक हो गया है। आज महीनों की यात्रा दिनों में तथा दिनों की यात्रा चंद घंटों में पूरी हो जाती है। इतने द्रुतगति की ट्रेनें, हवाई जहाज यातायात के रूप में काम में लाए जा रहे हैं। दिन-ब-दिन इनकी गति और उपलब्धता में और सुधार हो रहा है।

चिकित्सा के क्षेत्र में भी विज्ञान ने हमारे लिए बहुत सुविधाएं जुटाई हैं। आज कई असाध्य बीमारियों का इलाज मामूली गोलियों से हो जाता है। कैंसर और एड्‍स जैसे बीमारियों के लिए डॉक्टर्स और चिकित्साविशेषज्ञ लगातार प्रयासरत हैं। नई-नई कोशिकाओं के निर्माण में भी सफलता प्राप्त कर ली गई है।

सिक्के के दो पहलुओं की ही भांति इन आविष्कारों के लाभ-हानि दोनों हैं। एक ओर परमाणु ऊर्जा जहां बिजली उत्पन्न करने के काम में लाई जा सकती है। वहीं इससे बनने वाले परमाणु हथियार मानव के लिए अत्यंत विनाशकारी हैं। हाल ही में जापान में आए भूकंप के बाद वहां के परमाणु रिएक्टर्स को क्षति बहुत बड़ी त्रासदी रही।

अत: मनुष्य को अपनी आवश्यकता और सुविधानुसार मानवता की भलाई के लिए इनका लाभ उठाना चाहिए न कि दुरुपयोग कर इनके अविष्कारों पर प्रश्नचिह्न लगाना चाहिए।


"OR"

सच ही कहा गया है- आज कि सभ्यता कलयुगी सभ्यता है, कल अर्थात मशीनों का युगI आज का मनुष्य विज्ञान के बल पर न जाने कितनी मशीनों का निर्माण कर चुका हैI

आज किसी भी क्षेत्र में विज्ञान के बिना एक कदम भी आगे बढ़ पाना संभव नहीं हैI व्यक्तिगत रूप से दिन-प्रतिदिन के जीवन का हर कार्य-वह चाहे खाना पकाना हो, ज्ञान प्राप्ति हो या मनोरंजन-विज्ञान पर निर्भर हैI यातायात के साधन, चिकित्सा का क्षेत्र, संचार कि सुविधाएँ, शिक्षा, कृषि सभी क्षेत्रों में विज्ञान का ही बोलबाला हैI मनुष्य अन्य ग्रहों पर पंहुच गया हैI

ठोस धरती को छोड़कर, उसके नीचे का अध्ययन कर रहा हैI कंप्यूटर और मोबाइल, विमान और सेटेलाइट जैसे साधनों से दुनिया सिमट कर बहुत छोटी हो गई हैI विज्ञान ने आज जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में घर कर लिया हैI हमें हाथ हिलाने की भी आवश्यकता नहीं है, बस बटन दबाइये और काम हो जायेगाI

किंन्तु आवश्यकता इस बात कि है कि हम ध्यान रखें कि विज्ञान के बढ़ते चरण हमें दबा ही न डालेंI हथियारों का निर्माण कर विज्ञान का प्रयोग हम मानव जाती के संहार के लिए न करने लगेंI हमें मानवता को सुरक्षित रखना होगा और नैतिक पतन से बचना होगाI


HOPE YOU MAY LIKE AND PLZZ....
MARK AS BRAINLIEST ANSWER!!!
THANK YOU!!!!! ^_^  ^_^



0