Answers

  • Brainly User
2015-02-10T19:44:24+05:30
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी अहिंसा के बूते पर आजादी दिलाने में भले ही भारत के हीरो हैं लेकिन डाक टिकटों के मामले में वह विश्व के 104 देशों में सबसे बड़े हीरो हैं। विश्व में अकेले गांधी ही ऐसे लोकप्रिय नेता हैं जिन पर इतने अधिक डाक टिकट जारी होना एक रिकार्ड है। डाक टिकटों की दुनिया में गांधी जी सबसे ज़्यादा दिखने वाले भारतीय हैं तथा भारत में सर्वाधिक बार डाक-टिकटों पर स्थान पाने वालों में गाँधी जी प्रथम हैं। यहाँ तक कि आज़ाद भारत में वे प्रथम व्यक्ति थे, जिन पर डाक टिकट जारी हुआ। किन्तू एक दिलचस्प बात यह थी कि ज़िंदगी भर ‘स्वदेशी’ को तवज्जो देने वाले गांधी जी को सम्मानित करने के लिए जारी किए गए पहले डाक टिकटों की छपाई स्विट्जरलैंड में हुई थी। इसके बाद से लेकर आज तक किसी भी भारतीय डाक टिकट की छपाई विदेश में नहीं हुई।गाँधी जी की शक्सियत का ही असर था कि, भारत को ग़ुलामी के शिकंजे में कसने वाले ब्रिटेन ने जब पहली दफ़ा किसी महापुरुष पर डाक टिकट निकाला तो वह महात्मा गांधी ही थे। इससे पहले ब्रिटेन में डाक टिकट पर केवल राजा या रानी के ही चित्र छापे जाते थे।राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर सर्वाधिक डाक टिकट उनके जन्म शताब्दी वर्ष 1969 में जारी हुए थे। उस वर्ष विश्व के 35 देशों ने उन पर 70 से अधिक डाक टिकट जारी किए थे।
1 5 1
do u know hindi
plz mark dis ansr as bst
2015-02-10T20:36:33+05:30
आधुनिक युग में एक अहिंसा के पुजारी महत्मा गाँधी ने भारत में जन्म लिया.महत्मा गाँधी का पूरा नाम मोहदस करमचाँद गाँधी था.उनका जन्म 2 अक्टूबर,1869 को काठियावाड़. के पोरबंदर.नमक स्थान पर हुआ. उनके पिता का नाम करमचाँद और माता का नाम पुतलीबाई था.मात्र तेरह वर्ष की आयु में ही उनका वीवाह क्स्तूरबा से हो गया था. अफ़्रीका से लौटकर उन्होने भारत में भी अहिंसत्मक आंदोलन चलाने का निशचय किया. 1921 में गाँधीजी ने असहयोग आंदोलन चलाया .सन् 1930 में नमक स्त्याग्रह तथा 1942 में भारत छोड़ो .सरकार को भारत से जाना पड़ा . 15 अगस्त,1947 को भारत को स्वाधीनता प्राप्त हुई. गाँधीजी की ह्त्या 30 जनवरी ,1948 को नाथूराम गोदसे ने गोली मार कर हतया कर दी थी.
2 5 2