Answers

2015-03-13T23:11:15+05:30
ऋतुएँ प्राकृतिक अवस्थाओं के अनुसार वर्ष के विभाग हैं। भारत में मोटे हिसाब से तीन ऋतुएँ मानी जाती हैं- शरद, ग्रीष्म, वर्षा जिसमें प्रत्येक ऋतु चार महीने की होती है परंतु प्राचीन काल में यहाँ छह ऋतुएँ मानी जाती थीं-वसंत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद, हेमंत और शिशिर। (प्रत्येक दो महीने की होती है) जिन महीनों में सबसे अधिक पानी बरसता है वे वर्षा ऋतु के महीने हैं; नाम के अनुसार सावन भादों के महीने वर्षा ऋतु के हैं, परंतु यदि वर्षका मान-वर्ष में दिनों की संख्या-ठीक न हो तो कालांतर में ऋतुओं और महीनों में अंतर पड़ जाएगा और यह अंतर बढ़ता जाएगा। भारत के जो पंचांग प्राचीन ग्रंथों के आधार पर बनते हैं उनमें वर्ष मान ठीक नहीं रहता और इस कारण वर्तमान समय के सावन भादों तथा कालिदास के समय के सावन भादों में लगभग 22 दिन का अंतर पड़ गया है। मोटे हिसाब से नवंबर से फरवरी तक जाड़ा, मार्च से मध्य जून तक गरमी और मध्म जून से अक्टूबर तक बरसात गिनी जा सकती है।मूल कारण
1 1 1