Answers

2014-04-23T19:08:24+05:30
 बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।
अर्थ : जब मैं इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा न मिला. जब मैंने अपने मन में झाँक कर देखा तो पाया कि मुझसे बुरा कोई नहीं है.

 साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय,
सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय।
अर्थ : इस संसार में ऐसे सज्जनों की जरूरत है जैसे अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है. जो सार्थक को बचा लेंगे और निरर्थक को उड़ा देंगे.
2 3 2
2014-04-23T19:12:55+05:30
Guru ko kije bandagi,koti koti pranam;
kit na jane bhring ko,guru kar le ap saman.

Thank god/guru million times for what he given us Just as a wasp takes a worm into its nest and another worm emerges, just so guru makes the ordinary disciple as himself.
0